Blogs Hub

by AskGif | Oct 27, 2019 | Category :यात्रा

Top Places to visit in Komaram Bheem, Telangana

कोमाराम भीम में देखने के लिए शीर्ष स्थान, तेलंगाना

<p>कोमाराम भीम (२२ अक्टूबर १ ९ ०१ - २40 अक्टूबर १ ९ ४०) एक आदिवासी नेता थे जिन्होंने हैदराबाद की मुक्ति के लिए आसफ जाही राजवंश के खिलाफ लड़ाई लड़ी थी। कोमाराम भीम ने छापामार अभियान में सत्तारूढ़ निज़ाम सरकार के खिलाफ खुलकर लड़ाई लड़ी। उन्होंने जंगल के निर्वाह से दूर रहने वाले न्यायालयों, कानूनों और निजाम प्राधिकरण के किसी अन्य रूप को परिभाषित किया। उन्होंने निज़ाम नवाब के सैनिकों के खिलाफ हथियार उठाए, और अपनी आखिरी सांस तक बाबी झारी से लड़ते रहे। उनका जीवन इतिहास मूल रूप से तेलंगाना विद्रोह के कॉमरेड नेता, पुचलपल्ली सुंदरैया द्वारा लिखा गया था।</p> <p>&nbsp;</p> <p>लोकप्रिय संस्कृति</p> <p>मुख्य लेख: कोमाराम भीम (फ़िल्म)</p> <p>कोमाराम भीम नाम के आदिवासी नेता पर आधारित एक फिल्म को ए.पी. स्टेट नंदी अवार्ड्स (1990): बेस्ट फीचर फिल्म ऑन नेशनल इंटीग्रेशन और एक पहली फिल्म के सर्वश्रेष्ठ निर्देशक जैसे कई पुरस्कार मिले।</p> <p>"वीरभीम" शीर्षक से कोमाराम भीम पर एक टीवी सीरीज़ बनाई गई जो 72 एपिसोड के लिए सफलतापूर्वक चली। जाने-माने निर्देशक / निर्माता नागबाला सुरेश कुमार द्वारा निर्देशित, टीवी सीरीज़ ने सर्वश्रेष्ठ मेगा टीवी सीरियल 2012 सहित ए पी के सरकार द्वारा 4 नंदी पुरस्कार जीते।</p> <p>एस.एस.राजामौली द्वारा निर्देशित फिल्म आरआरआर में एन। टी। आर। कोमाराम भीम की भूमिका निभा रहे हैं।</p> <p>&nbsp;</p> <p>इतिहास</p> <p>पहले कोमाराम भीम जिले को आसिफाबाद जिले के रूप में जाना जाता था। इस पर काकतीय, मौर्य, सातवाहन, चालुक्य, कुतुब शाहिस और आसफ जाहिस जैसे कई राजवंशों का शासन था। 1905 में, इसे एक जिले के रूप में बनाया गया था, लेकिन बाद में इसे आदिलाबाद जिले में मिला दिया गया। 1913 में, यह 1941 में आदिलाबाद से खो जाने की स्थिति से पहले जिले के मुख्यालय के रूप में बनाया गया था। इसे 2016 में फिर से आदिलाबाद जिले से लिया गया था। 2016 के बाद से इसका नाम गोंड शहीद कोमाराम भीम के नाम पर रखा गया है।</p> <p>&nbsp;</p> <p>भूगोल</p> <p>यह जिला 4,300 वर्ग किलोमीटर (1,700 वर्ग मील) के क्षेत्र में फैला हुआ है। जिले के पश्चिमी भाग में पहाड़ियाँ हावी हैं और पूर्व के समानांतर प्राणहिता नदी बहती है।</p> <p>&nbsp;</p> <p>यह गिद्धों की लुप्तप्राय प्रजातियों का घर है, जिन्होंने पलारापू चट्टानों को बेज्जूर के जंगलों में अपना घर बना लिया है। सिरपुर जंगल बाघों और अन्य जंगली जानवरों का भी घर है। कपास और धान इस क्षेत्र में उगाई जाने वाली प्रमुख फसलें हैं।</p> <p>&nbsp;</p> <p>जनसांख्यिकी</p> <p>जिला काफी हद तक एक आदिवासी क्षेत्र है। 2011 की जनगणना के अनुसार, जिले में 592,831 लोगों की आबादी है।</p> <p>&nbsp;</p> <p>प्रभागों</p> <p>इस जिले के दो राजस्व विभाग हैं; कोमाराम भीम और कागजनगर और 15 मंडलों में विभाजित हैं। कोमाराम भीम निर्वाचन क्षेत्र के वर्तमान विधायक अथराम साक्कू और सिरपुर-टी कोनरू कोनप्पा हैं।</p> <p>&nbsp;</p> <p>मंडल</p> <p>क्र.सं. कोमाराम भीम राजस्व मंडल कागजनगर राजस्व मंडल</p> <p>1 Wankidi Bejjur</p> <p>2 Lingapur Penchicalpet</p> <p>3 Jainoor Kagaznagar</p> <p>4 Tiryani Kouthala</p> <p>5 कोमाराम भीम चिंतामणपल्ली</p> <p>6 Kerameri Dahegoan</p> <p>7 सिरपुर (U) सिरपुर (T)</p> <p>8 Rebbena</p> <p>&nbsp;</p> <p>उल्लेखनीय लोग</p> <p>कोमाराम भीम, स्वतंत्रता सेनानी</p> <p>कोंडा लक्ष्मण बापूजी, स्वतंत्रता सेनानी</p> <p>कोनेरू कोनप्पा, विधायक सिरपुर</p> <p>&nbsp;</p> <p>रुचि के स्थान</p> <p>गंगापुर मंदिर, रीबेना</p> <p>जोदेघाट, केरमरी</p> <p>कदंब वन अभ्यारण्य, एक बाघ अभयारण्य</p> <p>केरमरी घाट</p> <p>कोमाराम भीम सिंचाई परियोजना</p> <p>पलारपुगुट्टालु, एक गिद्ध रिजर्व</p> <p>सवतुला गुंडम झरने</p> <p>शिव मल्लाना मंदिर</p> <p>शिवकेशव मंदिर, वानकिडी</p> <p>सिरपुर वन अभ्यारण्य</p> <p>त्रिशूल पहाड</p> <p>टोंकिनी हनुमान मंदिर, सिरपुर-टी</p> <p>वत्तिवागू परियोजना</p> <p>&nbsp;</p> <p>स्रोत: https://en.wikipedia.org/wiki/Komaram_Bheem</p>

read more...