Blogs Hub

by AskGif | Sep 24, 2019 | Category :यात्रा

Top Places to visit in Champhai, Mizoram

चम्फाई में देखने के लिए शीर्ष स्थान, मिजोरम

<p>चम्पई मिज़ोरम राज्य में एक सीमावर्ती शहर है, जो सुदूर पूर्वी भारत में है। यह राज्य के आठ जिलों में से एक, चम्पई जिले का मुख्यालय है। यह भारत-म्यांमार सीमा पर स्थित है और रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण स्थान पर स्थित है। इस वजह से, यह क्षेत्र में भारत और म्यांमार के लिए मुख्य व्यापारिक गलियारा है।</p> <p>चंपई जिला भारत में मिजोरम राज्य के आठ जिलों में से एक है। यह जिला उत्तर में मणिपुर राज्य के चुराचंदपुर जिले से, पश्चिम में आइज़ोल और सेरशिप जिलों से और दक्षिण और पूर्व में म्यांमार से घिरा हुआ है। जिले का क्षेत्रफल 3185.83 वर्ग किमी है। चम्फाई शहर जिले का प्रशासनिक मुख्यालय है।</p> <p>&nbsp;</p> <p>चम्फाई का क्षेत्रफल 3,185.83 वर्ग किलोमीटर (1,230 वर्ग मील) है। औसत वार्षिक वर्षा 1,814 मिलीमीटर (71.4 इंच) है।</p> <p>&nbsp;</p> <p>इतिहास</p> <p>चम्हाई लालबोरा सेलो का मुख्यालय था, एक मिजो प्रमुख वनहानुइलियाना का पुत्र, जिसके खिलाफ 1871-72 के ब्रिटिश अभियान का निर्देशन किया गया था। ब्रिटिश काल के दौरान इसे एक किले का दर्जा दिया गया था। चंपई घाटी कभी झील थी और धीरे-धीरे झील को तिरस्कृत करने के लिए इसे बंद कर दिया गया था। 1872 के लुशाई अभियान के दौरान मैदान की मिट्टी का अभी भी उपयोग नहीं किया गया था। वर्ष 1898 में चंपई में सिंचित चावल की खेती ने ब्रिटिश औपनिवेशिक अधिकारियों द्वारा अपने सैनिकों और मजदूरों को चावल की आपूर्ति के लिए प्रोत्साहित किया था। 1922 तक, चंपई में केवल 1 दुकान थी। 1 मार्च 1966 को एमएनएफ ने एकतरफा मिजो इंडिपेंडेंस की घोषणा की और असम राइफल्स पोस्ट पर चम्फाई पर हमला किया।</p> <p>&nbsp;</p> <p>अर्थव्यवस्था</p> <p>चंपई की अर्थव्यवस्था मुख्य रूप से कृषि और सीमा व्यापार है। चम्पई मिज़ोरम का मुख्य व्यापारिक केंद्र भी है, जिसमें म्यांमार से ज़ोख्तर में व्यापार पोस्ट के माध्यम से कपड़े, चांदी के बर्तन और इलेक्ट्रॉनिक्स जैसे सामान आते हैं। इसमें गीले चावल की खेती के लिए 113 किलोमीटर लंबी और 48 किलोमीटर चौड़ाई में एक समतल भूमि है, जो 19,200 क्विंटल का उत्पादन कर सकती है। प्रति वर्ष चावल। 2011 में अकेले 20,000 बोतल मंथन करके 10,000 क्विंटल अंगूर की खेती की गई थी। ये दो मुख्य कृषि उत्पाद हैं।</p> <p>&nbsp;</p> <p>जलवायु</p> <p>Champhai में एक उष्णकटिबंधीय जलवायु क्षेत्र है। सर्दियों में, तापमान 10 डिग्री सेल्सियस से 20 डिग्री सेल्सियस और गर्मियों में भिन्न होता है, और सर्दियों में 15 डिग्री सेल्सियस और 30 डिग्री सेल्सियस के बीच।</p> <p>&nbsp;</p> <p>शिक्षा</p> <p>टाउन में उच्च शिक्षा के लिए एकमात्र संस्थान चम्पई कॉलेज है। हालांकि, यहां कई सरकारी स्वामित्व और निजी तौर पर संचालित स्कूल हैं।</p> <p>&nbsp;</p> <p>मीडिया</p> <p>चंपई में प्रमुख मीडिया हैं:</p> <p>&nbsp;</p> <p>Lenrual</p> <p>Pasaltha</p> <p>Rihlipui</p> <p>CCN (डिजिटल टीवी ऑपरेटर)</p> <p>LCN (डिजिटल टीवी ऑपरेटर)</p> <p>ट्रांसपोर्ट</p> <p>पवन हंस द्वारा एक हेलीकॉप्टर सेवा शुरू की गई है जो आइजॉल को चंपई से जोड़ती है। चम्फाई और आइज़ॉल के बीच की दूरी 194 किमी है और यह बस और सूमो की नियमित सेवा से जुड़ा हुआ है।</p> <p>&nbsp;</p> <p>प्रभागों</p> <p>यह जिला चार तहसीलों में विभाजित है: पूर्वी लुंगदार (भाग), ख्वाजवाल, ख्वाबंग, और नगवा। इसके चार ग्रामीण विकास खंड हैं: चंपई, ख्वाबंग, ख्वाजवेल और नगोपा। जिले में पांच विधान सभा क्षेत्र हैं। ये हैं चंपई उत्तर, पूर्वी तुईपुई, लेंगटेंग, तुइचांग और चम्फाई दक्षिण। इस जिले में अट्ठाईस बसे हुए गाँव हैं, जिनमें से सत्तर-छह गाँव राजस्व गाँव हैं।</p> <p>&nbsp;</p> <p>जनसांख्यिकी</p> <p>चम्पई जिले में धर्म</p> <p>धर्म प्रतिशत</p> <p>ईसाइयों</p> <p>&nbsp;</p> <p>98.17%</p> <p>हिंदुओं</p> <p>&nbsp;</p> <p>0.85%</p> <p>मुसलमानों</p> <p>&nbsp;</p> <p>0.56%</p> <p>अन्य</p> <p>&nbsp;</p> <p>0.15%</p> <p>बौद्धों</p> <p>&nbsp;</p> <p>0.12%</p> <p>नहीं बताया हुआ</p> <p>&nbsp;</p> <p>0.10%</p> <p>जैन</p> <p>&nbsp;</p> <p>0.04%</p> <p>सिखों</p> <p>0.01%</p> <p>2011 की जनगणना के अनुसार चंपई जिले की जनसंख्या 125,745 है, जो लगभग ग्रेनेडा देश के बराबर है। यह इसे भारत में 610 वीं (कुल 640 में से) की रैंकिंग देता है। जिले का जनसंख्या घनत्व 39 निवासियों प्रति वर्ग किलोमीटर (100 / वर्ग मील) है। 2001-2011 के दशक में इसकी जनसंख्या वृद्धि दर 16.01% थी। चम्फाई में हर 1000 पुरुषों पर 984 महिलाओं का लिंग अनुपात है, और साक्षरता दर 95.91% है।</p> <p>&nbsp;</p> <p>इस जिलों में प्रमुख धार्मिक समूह हैं: ईसाई (105,061), हिंदू (2,248) और मुसलमान (432)।</p> <p>&nbsp;</p> <p>वनस्पति और जीव</p> <p>1991 में चंपई जिला मुरलेन नेशनल पार्क का घर बन गया, जिसका क्षेत्रफल 200 किमी 2 (77.2 वर्ग मील) है। यह लेंगटेंग वन्यजीव अभयारण्य का भी घर है, जिसकी स्थापना 1999 में हुई थी और इसका क्षेत्रफल 120 किमी 2 (46.3 वर्ग मील) है।</p> <p>&nbsp;</p> <p>source: https://en.wikipedia.org/wiki/Champhai</p>

read more...