Blogs Hub

by AskGif | Dec 24, 2018 | Category :कहानी

Being Human !!!

मानव होने के नाते !!!

<p>इससे पहले कि मैं अपनी बात कहूं, मैं आपसे कुछ पूछना चाहता हूं ...</p> <p>&nbsp;</p> <p>ऐसा क्यों है कि आज हमें किसी की मदद करने के लिए भी भयावह तार्किक होना पड़ता है ??? क्या मानवता अभी भी जीवित नहीं है ??? क्यों नहीं...</p> <p>&nbsp;</p> <p>क्या हम अभी भी हैं ???</p> <p>&nbsp;</p> <p>क्या हम मानव बन रहे हैं ???</p> <p>&nbsp;</p> <p>क्या हम वास्तव में जीवित हैं ???</p> <p>&nbsp;</p> <p>ऐसा क्यों है कि आज हमें किसी की मदद करने के लिए भी भयावह तार्किक होना पड़ता है ??? क्या मानवता अभी भी जीवित नहीं है ??? क्यों नहीं...</p> <p>&nbsp;</p> <p>&nbsp;</p> <p>&nbsp;</p> <p>यह लिखने में मेरा दिल दुखता है, लेकिन 19 साल की उम्र में, एक व्यक्ति एक लाख सपनों के साथ एक पंखुड़ी की तरह नरम था और उनमें से एक 'अंत तक मानव रहा' ... 20 पर, हर व्यक्ति को ऐसा लगता है कि वह पत्थर की ठंडी है। और एक हीरे की तरह कठोर दिल होता है ... आप उस मासूम से क्या उम्मीद करते हैं कि जब उसके बाल सफ़ेद हो जाएँगे, तब तक उसके दिल में खून के बजाय उसके दिल से पानी बहने लगेगा?</p> <p>&nbsp;</p> <p>&nbsp;</p> <p>&nbsp;</p> <p>हमारा पर्यावरण, हमारी प्रणाली क्यों एक क्षुद्र मन को यह महसूस करने देती है कि उसके मानवीय गुण जागृत होने के बजाय बेहतर नींद लेते हैं और दुनिया को हाथों-हाथ लेने के लिए तैयार रहते हैं ???? हम अपने दिल में जो महसूस करते हैं, वह क्यों नहीं कर सकते? कम से कम इस उम्र में भावनात्मक मुद्दों में कम से कम ... हमें एक ऐसा भारत बनाने की जरूरत है, जिसकी नींव एक मानवीय प्रकृति के आधार पर हो .... हमें भारत को एक साथ मिल कर प्यार करने वाले दिलों को आत्मसात करने की जरूरत है ...</p> <p>&nbsp;</p> <p>&nbsp;</p> <p>&nbsp;</p> <p>तकनीकी उन्नति, संरचनात्मक उत्थान, सामाजिक नैतिकता ... हमारे लिए "बीई हूमन" ... के माध्यम से अपने आप को और राष्ट्र को विकसित करें लेकिन इस सब के बीच।</p> <p>&nbsp;</p> <p>&nbsp;</p> <p>&nbsp;</p> <p>आइए जानते हैं कि दुनिया के सबसे बड़े हिस्सों में क्या हुआ, जहां भारत के सबसे बड़े हिस्से ... हमारे प्रेम, प्रेम, भावनाएं, देखभाल, चिंता ..... हमारे मानव जाति के संदर्भों के बारे में जानते हैं ....</p> <p>&nbsp;</p> <p>&nbsp;</p> <p>&nbsp;</p> <p>हम सभी के बारे में मानव GUYZ हो रहा है ... LETZ होना चाहिए !!!</p> <p>&nbsp;</p> <p>पारुल सोचती है। । । पारुल कहती है। । ।</p> <p>&nbsp;</p> <p>सौजन्य: पारुल कौशिक</p>

read more...